World Population Day 2022 विश्व जनसंख्या दिवस 11 जुलाई को ही क्यों मनाया जाता है

World Population Day 2022

World Population Day 2022: पूरे विश्व में 11 जुलाई को हर साल विश्व जनसंख्या दिवस के रूप में मनाया जाता है आपको बता दें कि पहले इसे 11 जुलाई को हर साल इंसानों की विकास और प्रगति को सेलिब्रेट करने के लिए मनाया जाता था लेकिन अब विश्व जनसंख्या दिवस एक अभिश्राप के रूप में मनाया जाता है, आपको बता दें कि बढ़ती जनसंख्या नियंत्रण और बढ़ती जनसंख्या की कमियों को बताते हेतु जागरूक किया जाता है।

इस बार भी वर्ल्ड पापुलेशन डे थीम भी इसी पर रखी गई है आपको बता दें कि इस साल 11 जुलाई को वर्ल्ड पापुलेशन डे करीबन 8 अरब तक जनसंख्या हो चुकी है इसी बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए जनसंख्या नियंत्रण थीम रखी गई है।

World Population Day 2022

साल 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के दौरान UNDP द्वारा विश्व जनसंख्या दिवस की स्थापना 1989 में की गई थी इस दिन की प्रेरणा 5 अरब आबादी से आई थी जो 11 जुलाई 1987 को मनाया गया था जिस दिन दुनिया की आबादी करीबन 5 अरब लोगों तक पहुंच गई थी संयुक्त राष्ट्र संघ ने बढ़ती जनसंख्या पर चिंता प्रकट करते हुए तब संयुक्त राष्ट्र ने बढ़ती जनसंख्या को नियंत्रण करने और परिवारों को जागरूकता फैलाने के लिए वर्ल्ड पापुलेशन डे मनाने का फैसला लिया था।

विश्व जनसंख्या दिवस का महत्व

हर साल बढ़ती आबादी के कारण जनसंख्या हमारे भविष्य के लिए एक अभिशाप बन चुका है आपको बता दें कि बढ़ती जनसंख्या के कारण पर्यावरण प्रदूषण के कारण लोग विभिन्न बीमारियों से पीड़ित होते जा रहे हैं और प्रकृति का सौंदर्य भी बढ़ती आबादी के कारण कम होता जा रहा है आपको बता दें कि बढ़ती आबादी के कारण आज का युवा बेरोजगार हो चुके हैं इससे भुखमरी अशिक्षित आज ऐसी समस्याएं तेजी से बढ़ती जा रही है ऐसे में जनसंख्या नियंत्रण एक जरूरी हिस्सा हो चुका है।

ऐसी समस्याओं से जागरूक करने के लिए हर साल 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस के रूप में मनाया जाता है और इसी प्रकार इस साल भी विश्व जनसंख्या दिवस 2022 11 जुलाई को मनाया जा रहा है और ऐसी तेजी से बढ़ रही समस्याओं से निपटने के लिए भारत सरकार इस साल भी लोगों को जागरूक करने के लिए तेजी से कार्य कर रही है ताकि लोग समझ सके की जनसंख्या वृद्धि के कारण देश की आर्थिक स्थिति पर बहुत बुरा असर पड़ता है।

आपको बता दें कि आपको बता दें कि आज भारत में बेरोजगारी एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है और इससे बढ़ती जनसंख्या के कारण भुखमरी बीमारियां जैसी समस्याएं पैदा होती जा रही है इसी को नियंत्रण करने के लिए जनसंख्या को नियंत्रण करना होगा।

World Population Day 2022 Theme

आपको बता दें कि इस वर्ष करीबन 8 अरब आबादी हो चुकी है इस बढ़ती आबादी के कारण आज प्रकृति का सौंदर्य और बढ़ती बीमारियों के कारण प्रकृति में असंतुलन बन चुका है प्रकृति को संतुलन बनाए रखने के लिए आबादी को नियंत्रण करना होगा आपको बता दें कि आबादी ज्यादा हो जाने के बाद से लोगों के पास समान अधिकार और सम्मान रोजगार नहीं रहा है इसी कारण आज हर युवा रोजगार और सम्मान अधिकार के लिए संघर्ष कर रहा है इसीलिए इस साल बढ़ती आबादी को नियंत्रण करने के लिए लोगों को सलाह दी जाती है कि आबादी पर नियंत्रण रखें।

भारत की जनसंख्या की बात करें तो भारत की जनसंख्या करीबन 140 बिलियन के करीब पहुंच चुकी है और इसी बढ़ती जनसंख्या के कारण आज भारत देश में कई युवा बेरोजगार घूम रहे हैं भारत के शिक्षित उम्मीदवारों के पास भी आज रोजगार नहीं है इसी का कारण है कि बढ़ती जनसंख्या के कारण भारत में बेरोजगारी और बीमारियों का बढ़ना एक आम बात हो चुकी है आपको बता दें कि पिछले 2 वर्षों में बढ़ती आबादी के कारण कोरोना जैसी महामारी इतनी विनाशकारी हुई थी कि लाखों लोगों की इसमें जान चली गई थी बढ़ती आबादी को नियंत्रण करना होगा नहीं तो आने वाले समय में बेरोजगारी और बढ़ती बीमारियां भारत की आर्थिक स्थिति को नष्ट करके रख देगी।

Official WebsiteClick
Telegram GroupJoin Now

World Population Day 2022 क्यों मनाया जाता है?

विश्व जनसंख्या दिवस बढ़ती आबादी को नियंत्रण और जागरूक करने के लिए हर साल इसे वर्ल्ड पापुलेशन डे के रूप में मनाया जाता है।

World Population Day 2022 11 जुलाई को ही क्यों सेलिब्रेट किया जाता है?

विश्व जनसंख्या दिवस को 11 जुलाई 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के दौरान UNDP द्वारा वर्ल्ड पापुलेशन डे मनाने की घोषणा की गई थी इसलिए हर साल इसे 11 जुलाई को सेलिब्रेट किया जाता है।