Navratri 2021 Day 5: देवी स्कंदमाता की पूजा विधि शुभ मुहूर्त

Navratri 2021 Day 5 देवी स्कंदमाता की पूजा विधि शुभ मुहूर्त

Navratri 2021 Day 5: देवी स्कंदमाता नवरात्रि पांचवां दिन पूजा विधि रंग भोग मंत्र उपाय !

नवरात्रि के पांचवें दिन स्कंदमाता की पूजा की जाती है। स्कंदमाता (Skandmata) कुमार कार्तिकेय की माता है जिस कारण इनका एक नाम स्कंदमाता पड़ा. माता का यह रूप भगवान स्कंद के बालरूप को गोद में लिए हुए है इन माता की चार भुजाएं हैं। माता के दो हाथ में कमल का फूल है। इनकी एक भुजा ऊपर की तरफ उठी हुई और एक हाथ में पुत्र स्कंद है। सिंह इनका वाहन है। शारदीय नवरात्री का पांचवां नवरात्र 10 अक्टूबर के दिन है. आज हम आपको साल 2021 शारदीय नवरात्रि के पांचवें दिन देवी स्कन्द माता की पूजा विधि माँ के पसंदीदा भोग, मंत्र और इस दिन किये जाने वाले लाभकारी उपाय के बारे में बतायेगे।

स्कंदमाता स्वरुप, रंग, पूजा भोग

शास्त्रों के अनुसार देवी दुर्गा का यह स्वरुप बहुत ही करुणामयी और ममतामयी है नवरात्रि के पांचवें देवी स्कन्द माता को केले का भोग और मां को नीले या क्रीम, पीली रंग की वस्तुए अर्पित करनी चाहिए. यदि आज के दिन माँ के भक्त माँ को केसर डाल कर खीर अर्पण करते है तो माता रानी प्रसन्न होकर आपकी हर मनोकामना पूरी करती है।

Navratri 2021 Day 5
Navratri 2021 Day 5 Skandmata

स्कंदमाता पूजन विधि

Skandmata Puja vidhi

नवरात्रि के पांचवे दिन देवी स्कंदमाता की पूजा होती है मान्यता है देवी स्कंदमाता (Skandmata) भक्तो की भक्ति-भाव से प्रसन्न होकर उनकी हर इच्छा को पूरा करती है. पांचवें नवरात्रि पर प्रातःकाल स्नान करने के बाद व्रत का संकल्प लेकर भगवान गणेश जी,सभी देवी देवताओ और देवी स्कंद माता का आह्वाहन करे.स्कंद माता की पूजा में धनुष बाण अर्पित करने का विशेष महत्व है माता की पूजा में सुहाग का सामान, फूल और अक्षत आदि चीजे अर्पित कर उनके मंत्र ||ॐ देवीस्कन्दमातायै नमः|| का 108 बार जाप करे. इसके बाद माँ की आरती कर उन्हें केले का भोग लगा।

 

Navratri 2021 Day 3: माँ चंद्रघंटा की पूजा विधि शुभ मुहूर्त

माँ को प्रसन्न करने का महा उपाय

शास्त्रों में मां स्कंदमाता की आराधना का काफी महत्व बताया गया है। पांचवें दिन मां स्कंदमाता की पूजा से साधक को अंगारकयोग के दोषों से मुक्ति मिलती है और उन्हें स्वास्थ्य लाभ होता प्राप्त होता है. यदि आप भी माँ को प्रसन्न करना चाहते है तो नवरात्री के पांचवें दिन स्कंदमाता की पंचोपचार विधि से पूजा करे. पूजा में लाल, पीले फूल, बताशे, पान, सुपारी, लौंग, किसमिस, कमलगट्टा, कपूर,और सुहाग की सामग्री अर्पण करे इससे माँ प्रसन्न होकर आपकी हर इच्छापूरी करती है।

 

स्कंदमाता का मंत्र

या देवी सर्वभूतेषु मां स्कन्दमाता रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

सिंहासनगता नित्यं पद्माञ्चित करद्वया।

शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी॥

स्कंदमाता की आरती

जय तेरी हो स्कंद माता।

पांचवा नाम तुम्हारा आता।।

सब के मन की जानन हारी।

जग जननी सब की महतारी।।

दुष्ट दत्य जब चढ़ कर आएं।

तुम ही खंडा हाथ उठाएं।।

दासो को सदा बचाने आई।

‘चमन’ की आस पुजाने आई।।

Previous articleNavratri 2021 Day 3: माँ चंद्रघंटा की पूजा विधि शुभ मुहूर्त
Next articleREET-2021 उम्मीदवार ऑनलाइन आवेदन करें: कल तक आवेदन !
My name is Ashok Saini I am a blogger / news reporter I am working on a news website and I work to spread the news to the people